होम
सदस्य लॉगिन
सदस्य कंपनीयां
अन्य संबंधित वेबसाइट
डाक स्थिति
सूचना अधिकार अधिनियम
निविदा सूचना 
उप - केंद्र
छुट्टियों की सूची
प्रदर्शन और विश्लेषण
प्रश्न और उत्तर
शब्द-संक्षेप
हमसे संपर्क करें
 
       
      होम > एसटीपी और इएचटीपी योजना > नीति और लाभ

एसटीपी और इएचटीपी योजना

नीति और लाभ

सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क [एसटीपी] योजना 100% निर्यात उन्मुख योजना संचार लिंक या भौतिक मीडिया का उपयोग कर निर्यात के लिए सॉफ्टवेयर विकास या पेशेवर सेवाओं का निर्यात करने वाले उपक्रमों के लिए है।

सॉफ्टवेयर एवं सेवा उद्योग में सरकार की सभी वैधानिक सेवाओं की सुविधा द्वारा निर्यात को बढ़ावा देने के माध्यम से, संचार की आधारिक संरचना को मजबूत बनाने और उद्योग में गुणवत्ता चेतना को बढ़ाने के द्वारा राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की समृद्धि में योगदान के लिए इस समाज की स्थापना के गयी थी।

एसटीपी और ईएचटीपी योजना के तहत लाभ
एकल खिड़की मंजूरी व्यवस्था के तहत स्वीकृति दिया जाता है।
एसटीपी परियोजना को भारत में कहीं भी स्थापित किया जा सकता है।

क्षेत्राधिकार निदेशकों को पूंजीगत माल, 20 करोड़ डॉलर(करों के शुद्ध) से अधिक नहीं, के आयात का अनुमोदन अधिकार है।

100% विदेशी इक्विटी की अनुमति है।

एसटीपी इकाइयों में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के सभी आयात पूर्णतः शुल्क मुक्त हैं, पुराने पूंजीगत माल के आयात की भी अनुमति है।

पूंजीगत वस्तुओं के पुन: निर्यात की अनुमति दी जाती है।

सरलीकृत न्यूनतम निर्यात प्रदर्शन मानदंड यानी, (एसटीपी ईएचटीपी योजना)  शुद्ध विदेशी मुद्रा आय सकारात्मक हो।

एसटीपी इकाई द्वारा घरेलू खरीद, उपकरण आपूर्तिकर्ताओं के लिए डीम्ड एक्सपोर्ट के लाभ के पात्र हैं।

कंप्यूटर प्रणाली के व्यावसायिक प्रशिक्षण इस शर्त के साथ कि कोई कम्प्यूटर टर्मिनल एसटीपी परिसर के बाहर स्थापित न हो के उद्देश्य के लिए अनुमति दी जाती है।

घरेलू टैरिफ क्षेत्र में बिक्री [डीटीए] मूल्य के लिहाज से निर्यात का 50% तक अनुमेय किया जाएगा।

एसटीपी इकाइयों को 10 साल (2009-10 तक) के एक संवर्ग के लिए कॉर्पोरेट आय कर के भुगतान से छूट दी गई है।

घरेलू टैरिफ क्षेत्र [डीटीए] से खरीदे गए पूंजीगत सामान लेवी की तरह उत्पाद शुल्क और केन्द्रीय बिक्री कर [सीएसटी] के शुल्क के लाभ के लिए हकदार हैं।

विदेशी उद्यमियों द्वारा निवेश पूंजी को पता है - कैसे शुल्क, रॉयल्टी, लाभांश आदि स्वतंत्र रूप से आय कर (यदि कोई ) के भुगतान के बाद प्रत्यावर्तित कर सकते हैं।

पूंजीगत वस्तुओं पर पांच साल की अवधि के ऊपर 90% और पहले दो साल प्रति तिमाही 7% ​​की त्वरित दर से पहले तीन वर्षों की समग्र सीमा के अधीन कुल 70% मूल्यह्रास होता है।

एसटीपीआई योजना के तहत कॉल सेंटर की अनुमति दी जाती है।

सभी सेवाएं एपैक्स.54 में प्रक्रियाओं की किताब (एक्जिम) के अनुसार एसटीपी स्कीम की सुविधा के लिए पात्र हैं।

सेवा प्रदाता 'सर्विस एक्सपोर्ट हाउस', 'इन्टरनेशनल सर्विस एक्सपोर्ट हाउस' या 'इन्टरनेशनल स्टार सर्विस एक्सपोर्ट हाउस' के रूप में मान्यता प्राप्त करने के हक़दार हैं।


एसटीपी इकाइयों के लिए वैधानिक स्वीकृति

एसटीपी इकाइयों के लिए महत्वपूर्ण वैधानिक अनुपालन संदर्भ के रूप में नीचे सूचीबद्ध हैं

लेखा :


ऐसी प्रत्येक इकाई को अपने परिचालन के लिए अलग - अलग खातों को बनाए रखने के लिए आवश्यकता है। ऐसी प्रत्येक इकाई के लिए जो कंपनी के मुख्य तुलन पत्र का एक हिस्सा होंगे, अलग तुलन पत्र बनाने होंगे। अलग खातों को बनाए रखने के लिए निम्नलिखित किया जाएगा :

अलग रोकड़ एवं बैंक पुस्तक और तत्‌स्थानी वाउचर का रखरखाव।
बिक्री चालान का रखरखाव।
अचल संपत्ति की पंजिका का रखरखाव।
विदेशी आवक प्रेषण प्रमाणपत्र फ़ाइल का रखरखाव (एफआईआरसी) और बैंक वसूली प्रमाणपत्र फ़ाइल जहां एफआईआरसी और बीआरसी के मूल रखे जाते है।
अनुबंध फ़ाइलों, जहां ठेके की प्रतियां खरीदारों से प्राप्त की जाती हैं, का रखरखाव।
उस इकाई के लिए वार्षिक तुलन पत्र तैयार करना जो अंततः कंपनी के तुलन पत्र का एक हिस्सा बन जाएगा।

महाजनी :

प्रत्येक इकाई को अपने कार्यों के लिए अलग - अलग बैंक खातों को बनाए रखना आवश्यक है। ईकाइयाँ अपनी इच्छाओं के अनुरूप कई बैंक खाते खोल सकतीं है लेकिन किसी एक बैंक शाखा को नामित करना होगा जिसके पास सभी निर्यात दस्तावेजों को प्रस्तुत किया जाए। दूसरे शब्दों में सभी शिपिंग दस्तावेज़ों को सँभालने और निर्यात आय की प्राप्ति करने का काम इस नामित बैंक शाखा को सौंपा जाए।

शीर्ष



पृष्ठ अपडेट करने की तिथि : सोमवार, 21 मार्च 2016 17:11:27